विधायक सयंम लोढ़ा ने महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय में 10 कक्षा कक्ष भवन का किया शिलान्यास 

uk

utkarshexpress.com शिवगंज(राजस्थान) - मुख्यमंत्री के सलाहकार विधायकसंयम लोढ़ा ने कहा कि शिक्षा की चुनौतियां पहले भी थी और आज भी है। आजादी के समय देश में मात्र पांच करोड़ लोग ही पढऩा लिखना जानते थे। उसके बाद सरकारों के लगातार प्रयासों के बाद आज 100 करोड़ लोग पढना लिखना जानते है। मगर शिक्षा के क्षेत्र में हमें जो लक्ष्य हासिल करना चाहिए था वह हम हासिल नहीं कर पाए है। शिक्षा को लेकर आज भी लोगों का नजरिया आज भी ठीक नहीं है। जिसे हमें बदलने की जरुरत है तभी हम निर्धारित लक्ष्य हासिल कर सकेंगे। विधायक लोढ़ा गुरुवार को महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में सेठ हरकचंद रूपचंद खींचा परिवार की ओर से करीब 80 लाख रूपए की लागत से तैयार करवाए जाने वाले 10 कक्षा कक्षों के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर आयोजित समारोह में पालिकाध्यक्ष वजींगराम घांची, उपखंड अधिकारी भागीरथराम चौधरी, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक श्रीमती गंगा कलावंत अतिथि के रूप में उपस्थित थे।
मीडिया प्रभारी गुरुदीन वर्मा के अनुसार विधायक लोढ़ा ने कहा कि शिक्षा को लेकर लोगों का नजरिया हमेशा से ठीक नहीं रहा है। यहीं वजह है कि आजादी के इतने सालों में तत्कालीन सरकारों की ओर से इतनी योजनाओं को चलाने के बाद भी हमें अपेक्षित लक्ष्य नहीं मिल पाए है। विधायक लोढ़ा ने कहा कि यदि सिरोही जिले की बात करें तो हमारा जिला बालिका शिक्षा के क्षेत्र में पीछे से दूसरे पायदान पर है। इसी प्रकार राज्य में सर्वाधिक निरक्षर लोग सिरोही जिले में है। उन्होंंने शिक्षक समुदाय से कहा कि उन्होंने जो पेशा चुना है वह नौकरी का नहीं बल्कि एक मिशन है। शिक्षक समाज लोगों के जीवन में उजाला करने का काम करता है। विधायक ने कहा कि हमारे बच्चें तो कोरे कागज की तरह है,आप जैसी चाहे उस पर इबारत लिख सकते है। विधायक ने शिक्षक समुदाय से कहा कि वे शिक्षा को लेकर जो चुनौतियां हमारे सामने खड़ी है उसे स्वीकार करें तथा जिले को शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर मुकाम तक ले जाने का प्रयास करें। इस मौके पर विधायक ने लोगों ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि हमें जाति, धर्म से उपर उठकर सोचना होगा। उन्होंने कहा कि जाति, धर्म, मजहब के चक्कर में पडक़र हम प्रेम शब्द को ही भूल चुके है। विधायक ने कहा कि बच्चों को नाचने, गाने, बोलने सहित उसके भीतर की सारी प्रतिभा को जहां मंच मिले वहीं स्कूल का वास्तविक अर्थ है।  
अस्सी साल से सहयोग कर रहा भामाशाह परिवार - 
इस मौके पर विधायक लोढ़ा ने भामाशाह परिवार सेठ हरकचंद रूपचंद खींचा फाउंडेशन परिवार का आभार प्रकट करते हुए कहा कि यह विद्यालय भवन इसी परिवार की देन है। इस परिवार के पुरखों ने वर्ष 1942 में इस विद्यालय भवन की नींव रखी थी। वर्ष 1943 में यह विद्यालय शिक्षा के लिए लोकार्पित किया गया। उसके बाद से आज तक इस विद्यालय में हर किसी आवश्यकता के लिए यह परिवार हमेशा आगे रहता है। इस बार भी इसी परिवार ने विद्यालय में करीब 80 लाख रूपए खर्च कर 10 कक्षा कक्ष का नवीन भवन बनाकर देने के लिए आगे आया है। इसके लिए भामाशाह परिवार का साधुवाद किया। कार्यक्रम के दौरान विद्यालय की प्रधानाचार्य श्रीमती हेमलता चौधरी की ओर से विद्यालय भवन से लगते पुराना माध्यमिक विद्यालय भवन को महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय को प्रदान करवाने की मांग पर विधायक लोढ़ा ने कहा कि चूंकि यह भवन अस्पताल के लिए आवंटित करवाया गया था, लेकिन अब जब अस्पताल के लिए नवीन भवन बन रहा है तो इस भवन को अब विद्यालय के लिए आवंटित करवाया जा सकता है। इसके लिए उन्होंने उपखंड अधिकारी को प्रस्ताव बनाकर भिजवाने के लिए कहा। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भामाशाह परिवार के ललित खींचा ने विद्यालय भवन में इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध करवाने सहित भविष्य में भी सहयोग प्रदान करने का भरोसा दिलाया। मंच संचालन शिक्षक नेता धर्मेन्द्र गहलोत ने किया। जबकि प्रधानाध्यापक छगनलाल भाटी ने आगंतुक अतिथियों व भामाशाह परिवार का आभार प्रकट किया। इससे पूर्व विधालय प्रशासन की ओर से सभी अतिथियों एवं भामाशाह परिवार का साफा एवं पुष्पहार पहनाकर स्वागत किया।    
सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने मोहा मन - 
समारोह में विद्यालय की भूमिका एंड पार्टी, पुनम एंड पार्टी, खुशी एंड पार्टी तथा भूमि की ओर से शानदार रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां देकर सभी का मन मोहा। इस अवसर पर भामाशाह सेठ हरकचन्द रूपचन्द खींचा फाउण्डेशन के प्रतिनिधि अशोक खींचा, ललित खींचा, नरेश, महावीर, मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी अशोक परमार, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी नरेश परमार, एसीबीईओ हरिशंकर मीणा सुकनराज जैन, छगन चुनावाला, प्रकाश गांधी, चन्द्रकान्त जैन, मोहनलाल जैन, मांगीलाल जैन, भंवरलाल जैन, महिला कांग्रेस अध्यक्ष नजमा बानू, पूर्व महिला कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती ममता चित्तारा, जूली जैन, नफीसा बानू, पार्षद प्रवीण जैन, अल्पेश माली, नारायणलाल परिहार, मालमसिंह, प्रकाश मीना, कस्तुर घांची, राजेन्द्रसिंह, जयंतिलाल सोनी, महेन्द्र राठौड, अरविंद परारिया, राजेन्द्र कुमार, आरिफ टांक, पूर्व पार्षद अब्बास अली, जनक बाडमेरा, पेंशनर्स समाज के जयसिंह राठौड, मदन माली, हितेश टांक सहित कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Share this story