श्री बी.एम जैन स्कूल नालागढ़ में मनाया गया पयुर्षण पर्व

pic

utkarshexpress.com नालागढ़ - एस .बी.एम .जैन पब्लिक स्कूल नालागढ़ के विद्यार्थियों द्वारा स्कूल प्रांगण में धूमधाम से पयुर्षण पर्व मनाया गया। इस अवसर पर स्कूल प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष रमेश जैन ने पयूर्षण पर्व का महत्त्व  विध्यार्थीयों से सांझा किया। उन्होंने बताया कि 24 अगस्त से जैन धर्म का प्रमुख और महापर्व पर्युषण शुरू हुआ है। ये पर्व 10 दिनों तक मनाया जाता है.यानी कि पर्युषण का शुभारंभ भाद्रपद माह की पंचम तिथि से होता है और इसका समापन अनंत चतुर्दशी तिथि पर होता है. जिसके अनुसार, इस साल पर्युषण पर्व 24 अगस्त से लेकर 31 अगस्त तक मनाया गया । जैन समुदाय के इस महापर्व को दसलक्षण के नाम से भी जाना जाता है. जैन धर्म में पर्युषण को पर्वों का राजा कहा जाता है. ये पर्व भगवान महावीर स्वामी के मूल सिद्धांत अहिंसा परमो धर्म, जिओ और जीने दो की राह पर चलना सिखाता है।  प्रधानाचार्य प्रीति शर्मा 'असीम 'ने विद्यार्थियों को बताया कि जैन धर्म में उपवास यानी व्रत पर्युषण पर्व का एक महत्वपूर्ण अंग है। हिंदू धर्म के नवरात्रि की तरह ही ये त्योहार मनाया जाता है.पर्युषण पर्व की मुख्य बातें जैन धर्म के पांच सिद्धांतों पर आधारित हैं. जैसे- अहिंसा यानी किसी को कष्ट ना पहुंचाना, सत्य, चोरी ना करना, ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह यानी जरूरत से ज्यादा धन एकत्रित ना करना.  मान्यताओं के अनुसार, पर्युषण पर्व के दौरान जैन धर्मावलंबी धार्मिक ग्रंथों का पाठ करते हैं।

स्कूल प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष रमेश जैन,सचिव कुलदीप जैन तथा प्रधानाचार्य प्रीति शर्मा 'असीम 'ने विद्यार्थियों को इस अवसर पर बधाई देते हुए भगवान् महावीर के बताए मार्ग पर चलने की प्रेरणा दी। इस अवसर पर विध्यार्थियों ने प्रार्थनाएं और भजन गाए। इस कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु समस्त स्कूल अध्यापकों के कार्यों की प्रशंसा की।

Share this story