जल्द प्रकाशित होने जा रहा है हिंददेश परिवार का "अमर विश्व साहित्य" साझा संग्रह 

pic

utkarshexpress.com- हिंददेश परिवार अपनी स्थापना के परम उद्देश्य "समुची दुनिया को स्वर्ग से भी सुन्दर, खुशहाल, समृद्ध और सुखद स्थल बनाने" और "संसार भर में आपसी प्रेम, सौहार्द, सामंजस्य, साझा सरोकार, परोपकार, भाईचारे एवं विश्व बंधुत्व की भावना को प्रचारित, प्रसारित कर विश्व को एक वृहद कुटुंब (संयुक्त परिवार) के रूप में सबको आपस में जोड़कर एकरूपता प्रदान करने" की दिशा में निरन्तर बढ़ते अपने कदमों की गति में तेजी लाने हेतु "अमर विश्व साहित्य" के रूप में संसार भर के श्रेष्ठ और सकारात्मक सोच और दृष्टिकोण से पोषित रचनाकारों, कवियों, कवयित्रियों और साहित्यकारों की प्रतिनिधि कविताओं, गीतों, ग़ज़लों, छंदों, चौपाइयों, दोहों, मुक्तकों, कुंडलियों, आदि हिन्दी साहित्य की विभिन्न विधाओं में स्वरचित पद्यात्मक रचनाओं से सजा-संवरा "एक साझा संग्रह" प्रकाशित करने जा रहा है और इस साझा संकलन में अपनी-अपनी श्रेष्ठ रचनाओं को सामिल करवाकर अपने साहित्यिक सृजन और इस साझा संग्रह को अमर साहित्य बना देने में अपना सहयोग करने का आप सबको विनम्र निवेदन और अनुरोध करता है।
आपके प्यार भरे सहयोग से हम सबके अपने हिंददेश परिवार का यह साझा संग्रह अमर हो जाएगा और इसके साथ ही आप सबकी रचनाएं भी अमरत्व प्राप्त कर सकेंगी और सबसे ऊपर हमारे हिंददेश परिवार की उद्देश्य प्राप्ति की राह में एक मील का पत्थर स्थापित करेगी। तो आइए अपनी-अपनी श्रेष्ठ और प्रतिनिधि रचनाओं (पद्यात्मक) से उक्त साझा संग्रह को परिवर्धित, समृद्ध एवं परिपूर्ण करने के लिए आगे आएं और इस महान कार्य में अपना योगदान देकर स्वयं को भी एक संतुष्टि प्रदान करने के सुनहरे मौके का लाभ उठाएं।
साथ ही इस सूचना को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए अपने अपने फेसबुक पटल पर तथा अन्यान्य आभासिय पटलों पर प्रेषित करें ताकि इसका अधिक से अधिक प्रचार हो और रचनाएं प्राप्त करने में आसानी हो। उपरोक्त साझा संग्रह का "मुख्य आवरण पृष्ठ" बनकर तैयार हो चुका है जिसे यहां प्रेषित किया गया है। 

Share this story