छंद - (चुनावी चर्चा) - जसवीर सिंह हलधर 

pic

किसानों का नहीं ध्यान , कर्ज में फसी है जान ,
मुफ्त सरकार बाटे , खेत के अनाज को ।

आरती से ज्यादा मान , राजनीति के मसान ,
देने लगे मान अब , जुमे की नमाज को ।।

जाति वादी राजनीति ,सबसे बड़ी कुरीती 
बांट रही आज कल ,देश के समाज को ।

नेता हो रहे मलंग , सोच को लगी है जंग ,
सिंधु में डुबाने लगे , हिन्द के जहाज को ।।
 - जसवीर सिंह हलधर, देहरादून 
 

Share this story