हिंदी ग़ज़ल - जसवीर सिंह हलधर 

pic

दुश्मन भले जहान है पर बेमिसाल है ।
दुनिया कहे महान है आभा विशाल है ।

वो खूब सावधान था बचकर निकल गया ,
खतरे में उसकी जान है तीखा सवाल है ।

डरने लगा चुनाव की आहट से आज वो ,
कानून वापसी हुआ हमको मलाल है ।

है कौन उसके काम पर उँगली उठा सके ,
या तो ज़लील शख़्स है या फिर दलाल है ।

पंजाब ने दिखा दिया सच आज देश को ,
हल्दी मिली कपीश को सच्ची मिसाल है ।

योगी बनाम भोगियों में जंग हो रही ,
थामे खड़ा फ़क़ीर वो सच की मशाल है ।

जिन्ना जुनून देश में दिखने लगा मुझे ,
अब खालसा करने लगा फिर से वबाल है ।

"हलधर" कहे ग़ज़ल जिसे वो तल्ख़ तेवरी ,
ठुकरा सके बयान ये किसकी मजाल है ।
जसवीर सिंह हलधर , देहरादून
 

Share this story