नव वर्ष फिर आया है - निहारिका झा 

pic

नव प्रभात  की किरणों सँग,
नया वर्ष फिर आया है।
नयी उम्मीदें आस जगाने, 
नया वर्ष यह आया है।
बीता वक्त बना है फ़साना,
उन यादों का लिए तराना, 
नया वर्ष  यह आया है।
लिए उमंगें करते  स्वागत,
पूरी करने आया आगत,
भूल जायें सब बीती बातें,
यही सीख सिखलाने हमको, 
नया वर्ष फिर आया है।।
यही कामना करते हम सब,
नया वर्ष शुभ मंगल हो।।
- निहारिका झा, खैरागढ राज. (36गढ़)

Share this story