गीत - शुभ नया वर्ष हो 

pic

हर्ष ही हर्ष हो नित्य उत्कर्ष हो । 
आ गयी जनवरी शुभ नया वर्ष हो ।।

अलविदा अलविदा कह रहा अलविदा ।
साल इक्कीस ने अब कहा अलविदा ।।
विश्व में शांति हो विश्व में हर्ष हो ।
आ गयी जनवरी शुभ नया वर्ष हो ।।

मौत का सिलसिला किस तरह था बढ़ा ।
आदमी रह गया था ठगा सा खड़ा ।।
ज़िंदगी मौत में अब न संघर्ष हो ।
आ गयी जनवरी शुभ नया वर्ष हो ।।

दुख भरी शाम थी रात थी अनमनी ।
दहशतें दहशतें मौत की सनसनी ।।
हर कुहासा मिटे सूर्य का दर्श हो ।
आ गयी जनवरी शुभ नया वर्ष हो ।।


लालिमा छा रही प्रात आयी नयी।
कालिमा धुल गयी रात काली गयी ।।
नीलिमा चाहती प्रेम संकर्ष हो ।
आ गयी जनवरी शुभ नया वर्ष हो ।।


हर्ष ही हर्ष हो नित्य उत्कर्ष हो ।
आ गयी जनवरी शुभ नया वर्ष हो ।।
- डा० नीलिमा मिश्रा, प्रयागराज
 

Share this story