कीमती है तुम्हारी जवानी - अनिरुद्ध कुमार

pic

मगन हो लगन से रचो ना कहानी,
हँसे जिंदगी बस यही जिंदगानी।
हमारा तुम्हारा फसाना नया क्या?
सभी गीत गाते चढ़े जब जवानी।
                     
सभी आज मातें लहू में रवानी,
भुलाये खुदी को पढ़े लाभ हानी।
सदा जोड़ते तोड़ते रोज रिश्ता,
कहें रात दिन ये नहीं खानदानी।
                      
कलेजा जलाये बहुत ये गुमानी,
जुबां तेज इनकी यही है निशानी।
सदा बोलते  की जमाना हमारा,
सभी देखते पीटते रोज पानी। 

यहाँ कौन सोचें बता क्या बतानी,
नया है जमाना कहाँ नेक नामी।
सभी झूमते राज दिल में छुपाये,
लगा आग दिल में करे बेजुबानी।

दिया है खुदा ने हँसी जिंदगानी,
जरा झाँकले जिंदगी है सुनामी। 
गले से लगाले दिवाना बना ले,
जगे प्यार दिल में लगे ये सुहानी।
जवां आदमी हो, गढ़ो नव कहानी,
यही बात सबको, सदा है बतानी।
करो काम ऐसा, करे याद दुनिया,
बड़ी कीमती है, तम्हारी जवानी।
- अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड
 

Share this story